सुबह बारिश, दोपहर को निकली चटक धूप

Must Read

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य...

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

बुधवार से शुरू हुई बारिश का सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा। हालांकि, दोपहर बाद मौसम ने करवट बदली और अच्छी धूप निकली। वहीं, बारिश के चलते किसानों के चेहरे खिले उठे हैं। उन्हें खेतों की सिंचाई से छुटकारा मिल गया है।
शुक्रवार सुबह तेज हवा के साथ शहर से लेकर देहात तक बारिश हुई। इससे जनजीवन प्रभावित रहा। बारिश से शहर और कस्बे में कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति भी बनी। लोग छाता लेकर खरीदारी के लिए बाहर निकले। हालांकि, दोपहर बाद मौसम पूरी तरह साफ हो गया और धूप निकली। दूसरी ओर, लगातार तीन दिन तक हुई बारिश के बाद से जनपद के किसानों के चेहरे खिल गए हैं। खासकर आम के लिए यह बारिश सबसे अच्छी मानी जा रही है।

हुई सिंचाई, अब होगी बुवाई
रवि के बाद खाली पड़े खेतों में सिंचाई की तैयारी कर रहे किसानों को भी राहत मिली है। बारिश से खेतों की सिंचाई हो गई है और किसानों का खर्च भी बच गया। लिहाजा अब खरीफ की फसल के लिए खेतों की जुताई में तेजी आएगी और धान की नर्सरी की बुवाई भी शुरू हो सकेगी।

खेतों में न रुकने दें पानी
मुख्य कृषि अधिकारी विकेश कुमार यादव ने बताया कि खड़ी फसलें जैसे मक्का, उड़द, मूंग और अन्य सब्जियों के खेतों में किसान पानी न रुकने दें। वहीं, पशु चिकित्सा अधिकारी गुरप्रीत सिंह सचदेवा ने बताया कि अपने पशुओं का भी विशेष ध्यान रखें। पशुओं के आसपास गंदा पानी इकट्ठा न होने दें। इससे पशुओं में बीमारी फैलती है।

बुधवार से शुरू हुई बारिश का सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा। हालांकि, दोपहर बाद मौसम ने करवट बदली और अच्छी धूप निकली। वहीं, बारिश के चलते किसानों के चेहरे खिले उठे हैं। उन्हें खेतों की सिंचाई से छुटकारा मिल गया है।

शुक्रवार सुबह तेज हवा के साथ शहर से लेकर देहात तक बारिश हुई। इससे जनजीवन प्रभावित रहा। बारिश से शहर और कस्बे में कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति भी बनी। लोग छाता लेकर खरीदारी के लिए बाहर निकले। हालांकि, दोपहर बाद मौसम पूरी तरह साफ हो गया और धूप निकली। दूसरी ओर, लगातार तीन दिन तक हुई बारिश के बाद से जनपद के किसानों के चेहरे खिल गए हैं। खासकर आम के लिए यह बारिश सबसे अच्छी मानी जा रही है।



हुई सिंचाई, अब होगी बुवाई

रवि के बाद खाली पड़े खेतों में सिंचाई की तैयारी कर रहे किसानों को भी राहत मिली है। बारिश से खेतों की सिंचाई हो गई है और किसानों का खर्च भी बच गया। लिहाजा अब खरीफ की फसल के लिए खेतों की जुताई में तेजी आएगी और धान की नर्सरी की बुवाई भी शुरू हो सकेगी।



खेतों में न रुकने दें पानी

मुख्य कृषि अधिकारी विकेश कुमार यादव ने बताया कि खड़ी फसलें जैसे मक्का, उड़द, मूंग और अन्य सब्जियों के खेतों में किसान पानी न रुकने दें। वहीं, पशु चिकित्सा अधिकारी गुरप्रीत सिंह सचदेवा ने बताया कि अपने पशुओं का भी विशेष ध्यान रखें। पशुओं के आसपास गंदा पानी इकट्ठा न होने दें। इससे पशुओं में बीमारी फैलती है।



Source link

Leave a Reply

Latest News

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य शुरू कर... Source link

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट खोली जाएगी। इसके लिए भवन...

यूरिया न मिलने पर बहादरपुर में किसानों का धरना

पूरे जिले में इस समय यूरिया खाद को लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। रविवार शाम को इफको से रैक आने पर सभी... Source...

हज यात्रा 2021: हज यात्रियों को लगातार दूसरे साल लगा झटका, यात्रा हुई रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिरान कलियर (रुड़की) Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 14 Jun 2021 11:00 PM IST सार पिछले साल कोरोना के चलते...

More Articles Like This