आवासीय योजना के लिए भटक रहे फरियादी

Must Read

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य...

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

इमलीखेड़ा गांव के कुछ लोग आवासीय योजना के तहत एक पक्के मकान के लिए कई साल से भटक रहे हैं। अब इमलीखेड़ा को नगर पंचायत का दर्जा दिए जाने की कवायद ने इन लोगों के हौसले तोड़ दिए हैं।
रुड़की ब्लॉक के इमलीखेड़ा के वेदप्रकाश प्रजापति, रामपाल, विनोद और सोम प्रकाश प्रजापति सहित कई परिवार गांव में करीब 50 साल से क्षतिग्रस्त मकान में रह रहे हैं। हर बरसात में टपकने के कारण उन्हें घर गिरने का डर सताता रहता है। इनके पास शौचालय तक नहीं है। ये लोग मेहनत मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं। बेहद गरीब होने के चलते ये लोग आज तक अपना पक्का मकान नहीं बना पाए। इनका आरोप है कि इन्होंने कई साल पहले ब्लॉक में इंदिरा आवास योजना के तहत एक पक्का मकान और शौचालय दिए जाने के लिए आवेदन किया था। आरोप है कि कुछ साल तक तो ब्लॉक में अधिकारियों ने उनका आवेदन लटकाए रखा। कुछ समय पहले जांच कर उन्हें पात्र पाया गया। तब उन्हें उम्मीद जगी थी कि अब उन्हें अपना पक्का घर मिल जाएगा। उसी दौरान जिले में इमलीखेड़ा को नगर पंचायत बनाने की कवायद शुरू हो गई थी। ऐसे में ब्लॉक में अधिकारियों ने भी इस गांव की आवासीय योजना की फाइल अधर में अटका दी। आरोप है कि अधिकारियों का कहना है कि अब नगर पंचायत बनने के बाद वही से योजना का लाभ मिलेगा। ऐसे में उनके सामने अपने घर का संकट खड़ा हो गया। उन्होंने मामले में बीडीओ से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। वहीं मामले में बीडीओ आरपी सती का कहना है कि वहां के जो लोग इमलीखेड़ा ग्राम पंचायत रहते हुए पात्र पाए गए थे उन्हें योजना का लाभ दिया जाएगा।

इमलीखेड़ा गांव के कुछ लोग आवासीय योजना के तहत एक पक्के मकान के लिए कई साल से भटक रहे हैं। अब इमलीखेड़ा को नगर पंचायत का दर्जा दिए जाने की कवायद ने इन लोगों के हौसले तोड़ दिए हैं।

रुड़की ब्लॉक के इमलीखेड़ा के वेदप्रकाश प्रजापति, रामपाल, विनोद और सोम प्रकाश प्रजापति सहित कई परिवार गांव में करीब 50 साल से क्षतिग्रस्त मकान में रह रहे हैं। हर बरसात में टपकने के कारण उन्हें घर गिरने का डर सताता रहता है। इनके पास शौचालय तक नहीं है। ये लोग मेहनत मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं। बेहद गरीब होने के चलते ये लोग आज तक अपना पक्का मकान नहीं बना पाए। इनका आरोप है कि इन्होंने कई साल पहले ब्लॉक में इंदिरा आवास योजना के तहत एक पक्का मकान और शौचालय दिए जाने के लिए आवेदन किया था। आरोप है कि कुछ साल तक तो ब्लॉक में अधिकारियों ने उनका आवेदन लटकाए रखा। कुछ समय पहले जांच कर उन्हें पात्र पाया गया। तब उन्हें उम्मीद जगी थी कि अब उन्हें अपना पक्का घर मिल जाएगा। उसी दौरान जिले में इमलीखेड़ा को नगर पंचायत बनाने की कवायद शुरू हो गई थी। ऐसे में ब्लॉक में अधिकारियों ने भी इस गांव की आवासीय योजना की फाइल अधर में अटका दी। आरोप है कि अधिकारियों का कहना है कि अब नगर पंचायत बनने के बाद वही से योजना का लाभ मिलेगा। ऐसे में उनके सामने अपने घर का संकट खड़ा हो गया। उन्होंने मामले में बीडीओ से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। वहीं मामले में बीडीओ आरपी सती का कहना है कि वहां के जो लोग इमलीखेड़ा ग्राम पंचायत रहते हुए पात्र पाए गए थे उन्हें योजना का लाभ दिया जाएगा।



Source link

Leave a Reply

Latest News

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य शुरू कर... Source link

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट खोली जाएगी। इसके लिए भवन...

यूरिया न मिलने पर बहादरपुर में किसानों का धरना

पूरे जिले में इस समय यूरिया खाद को लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। रविवार शाम को इफको से रैक आने पर सभी... Source...

हज यात्रा 2021: हज यात्रियों को लगातार दूसरे साल लगा झटका, यात्रा हुई रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिरान कलियर (रुड़की) Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 14 Jun 2021 11:00 PM IST सार पिछले साल कोरोना के चलते...

More Articles Like This