‘तीन तलाक बिल धर्म का नहीं, नारी न्याय का सवाल’, 10 प्वाइंट में जानें लोकसभा में ट्रिपल तलाक पर क्या-क्या हुआ

Must Read

उत्तराखंड भाजपा में रार शुरू: ‘पार्टी अध्यक्ष ने मुझे हराने की साजिश रची’, विधायक संजय गुप्ता का वीडियो वायरल

{"_id":"620b1bbee272e114051b8567","slug":"laksar-bjp-mla-sanjay-gupta-says-uttarakhand-bjp-chief-madan-kaushik-has-worked-against-several-bjp-candidates-to-ensure-their-defeat-in-this-election","type":"feature-story","status":"publish","title_hn":"उत्तराखंड भाजपा में रार शुरू: 'पार्टी अध्यक्ष ने मुझे हराने की साजिश रची', विधायक संजय गुप्ता का वीडियो...

राहुल-प्रियंका की प्रतिष्ठा से जुड़ीं उत्तराखंड की ये सात विधानसभा सीट 

विधानसभा चुनाव के परिणाम कांग्रेस के स्टार प्रचारक पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी...

Weather Update:दो जिलों को छोड़ साफ रहेगा मौसम,जानें मौसम पूर्वानुमान 

उत्तराखंड में मतदान के दिन सोमवार को नैनीताल और पिथौरागढ़ जिले को छोड़ बाकी जिलों में मौसम साफ...

नई दिल्ली ।   नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल में मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा को समाप्त करने से संबंधित विवादास्पद विधेयक को शुक्रवार को लोकसभा में अपने पहले विधेयक के रूप में पेश किया। विपक्ष के भारी विरोध के बीच सदन ने विधेयक को 74 के मुकाबले 186 मतों के समर्थन से पेश करने की अनुमति दी। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सदन में ‘मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक 2019 पेश करते हुए कहा कि विधेयक पिछली लोकसभा में पारित हो चुका है लेकिन सोलहवीं लोकसभा लोकसभा का कार्यकाल समाप्त होने के कारण और राज्यसभा में लंबित रहने के कारण यह निष्प्रभावी हो गया। इसलिए सरकार इसे दोबारा इस सदन में लेकर आई है।

1. रविशंकर प्रसाद ने तीन तलाक विधेयक को लेकर विपक्ष के कुछ सदस्यों की आपत्ति को सिरे से दरकिनार करते हुए संविधान के मूलभूत अधिकारों का हवाला दिया जिसमें महिलाओं और बच्चों के साथ किसी भी तरह से भेदभाव का निषेध किया गया है। विपक्षी सदस्य इसे एक समुदाय पर केंद्रित और संविधान का उल्लंघन करने वाला बता रहे हैं। मंत्री ने कहा कि जनता ने हमें कानून बनाने भेजा है। कानून पर बहस और व्याख्या का काम अदालत में होता है। संसद को अदालत नहीं बनने देना चाहिए।
2. रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि यह ”नारी के सम्मान और नारी-न्याय का सवाल है , धर्म का नहीं। प्रसाद ने सवाल किया कि जब उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद भी मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक के चलन से पीड़ित हैं तो क्या संसद को इस पर विचार नहीं करना चाहिए?

3. उन्होंने कहा कि 2017 से तीन तलाक के 543 मामले विभिन्न स्रोतों से सामने आये हैं जिनमें 229 से अधिक उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद आये। इसलिए कानून बनाना जरूरी है। प्रसाद ने कहा कि हमें लगता था कि चुनाव के बाद विपक्ष इस विधेयक की जरूरत को समझेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
4. इससे पहले विपक्ष ने विधेयक पेश किये जाने का विरोध किया, जिसके बाद अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि अभी मंत्री केवल विधेयक पेश करने की अनुमति मांग रहे हैं। आपत्तियां उसके बाद दर्ज कराई जा सकती हैं।
5. तीन तलाक से संबंधित विधेयक पेश किये जाने का विरोध करते हुए कांग्रेस के शशि थरूर ने कहा कि हम तीन तलाक के खिलाफ हैं लेकिन इस विधेयक की विषयवस्तु से इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने कहा कि यह विधेयक किसी एक समुदाय तक सीमित नहीं रहना चाहिए।
6. शशि थरूर ने और आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन तथा एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी ने भी इसे संविधान के अनुच्छेद 14 और 15 का उल्लंघन बताते हुए सरकार से सभी समुदायों के लिए समान कानून बनाने की जरूरत बताई।
7. रवि शंकर प्रसाद ने इस पर कहा कि संविधान के अनुच्छेद 15 के खंड 3 में कहा गया है कि सरकार को महिलाओं और बच्चों के लिए विशेष प्रावधान बनाने से नहीं रोका जा सकता।
8. ओवैसी समेत कुछ सदस्यों ने विधेयक पेश किये जाने से पहले मत-विभाजन की मांग की। इसमें विधेयक के पक्ष में 186 और विरोध में 74 मत मिले। इस बीच लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने विधेयक पेश किये जाने के दौरान सदस्यों की आपसी बातचीत को सदन की गरिमा के खिलाफ बताते हुए कहा कि सदन प्रक्रियाओं से चलता है। इसकी मर्यादा बनाये रखना हम सबका दायित्व है। सदस्यों को एक दूसरे के पास जाकर चर्चा नहीं करनी चाहिए। अध्यक्ष ने जब कुछ सदस्यों का नाम लेकर यह बात कही तो कांग्रेस के सदस्यों ने विरोध जताया।
9. पिछले साल दिसंबर में तीन तलाक विधेयक को लोकसभा ने मंजूरी दी थी। लेकिन यह राज्यसभा में पारित नहीं हो सका। संसद के दोनों सदनों से मंजूरी नहीं मिलने पर सरकार ने इस संबंध में अध्यादेश लेकर आई थी जो अभी प्रभावी है।

10. मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2019 को संसद के दोनों सदनों की मंजूरी मिल गयी तो यह इस संबंध में लाये गये अध्यादेश की जगह ले लेगा। इस विधेयक के तहत मुस्लिम महिलाओं को एक बार में तीन तलाक कहकर वैवाहिक संबंध समाप्त करना गैरकानूनी होगा। विधेयक में ऐसा करने वाले पति के लिए तीन साल के कारावास की सजा का प्रावधान प्रस्तावित है।

Leave a Reply

Latest News

उत्तराखंड भाजपा में रार शुरू: ‘पार्टी अध्यक्ष ने मुझे हराने की साजिश रची’, विधायक संजय गुप्ता का वीडियो वायरल

{"_id":"620b1bbee272e114051b8567","slug":"laksar-bjp-mla-sanjay-gupta-says-uttarakhand-bjp-chief-madan-kaushik-has-worked-against-several-bjp-candidates-to-ensure-their-defeat-in-this-election","type":"feature-story","status":"publish","title_hn":"उत्तराखंड भाजपा में रार शुरू: 'पार्टी अध्यक्ष ने मुझे हराने की साजिश रची', विधायक संजय गुप्ता का वीडियो...

राहुल-प्रियंका की प्रतिष्ठा से जुड़ीं उत्तराखंड की ये सात विधानसभा सीट 

विधानसभा चुनाव के परिणाम कांग्रेस के स्टार प्रचारक पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की प्रतिष्ठा से भी...

Weather Update:दो जिलों को छोड़ साफ रहेगा मौसम,जानें मौसम पूर्वानुमान 

उत्तराखंड में मतदान के दिन सोमवार को नैनीताल और पिथौरागढ़ जिले को छोड़ बाकी जिलों में मौसम साफ रहेगा। इन दोनों जिलों में...

अलर्ट रहे अधिकारी, दौड़ती रही पुलिस की टीमें

ख़बर सुनें ख़बर सुनें मतदान के दौरान शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस चौकस दिखी। शहर से गांव तक पुलिस की टीमें...

AAP नेता के आरोप,उत्तराखंड में वोट के लिए पैसे बंटवा रहे हैं सीएम पुष्कर सिंह धामी

विधानसभा चुनाव 2022 के लिए मतदान 14 फरवरी से ठीक एक दिन पहले अब एक नया विवाद सामने आ गया है। आम आदमी...

More Articles Like This