42 पर्यवेक्षकों ने शुरू किया गन्ना सर्वेक्षण

Must Read

क्षत्रिय विकास महासभा उत्तराखंड ने किया पौधरोपण

रुड़की। पृथ्वीराज चौहान क्षत्रिय विकास महासभा उत्तराखंड ने नहर किनारे पौधरोपण किया। महासभा के अध्यक्ष यशवंत सिंह चौहान...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

गन्ना विकास परिषद ने लक्सर क्षेत्र में गन्ना सर्वे शुरू कर दिया है। 42 गन्ना पर्यवेक्षकों 15 जुलाई तक 262 गांवों में गन्ना सर्वे का कार्य पूरा करना होगा। ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक ने सभी गन्ना पर्यवेक्षकों की बैठक लेकर उन्हें निष्पक्ष ढंग से गन्ना सर्वे का कार्य पूरा करने के निर्देश दिए हैं।
गन्ना विकास परिषद की ओर से हर बार अप्रैल के आखिरी सप्ताह में गन्ना सर्वे का कार्य शुरू किया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना कर्फ्यू के चलते सर्वे लगभग एक माह की देरी से शुरू हो रहा है। ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक प्रदीप कुमार वर्मा ने बताया गन्ना विकास परिषद इस बार खुद किसानों के गन्ना सर्वे करा रहा है। मिल कर्मचारी गन्ना सर्वे के कार्य में हिस्सा नही लेंगे। गन्ना पर्यवेक्षक खेतों में पहुंचकर फीते व जंजीर के माध्यम से खेत की पैमाइश करेंगे। इस दौरान किसान खेतों में मौजूद रहकर गन्ना सर्वे कराएंगे। उन्होंने बताया कि सर्वे के लिए क्षेत्र को दो जोन में बांटा गया है। पहले जोन में 30 और दूसरे जोन में 12 गन्ना पर्यवेक्षक सर्वे करेंगे। लक्सर विकास समिति के विशेष सचिव गौतम सिंह नेगी ने कहा कि गन्ना सर्वे के कार्य का निरीक्षण भी किया जाएगा।

किसानों को ये देना होगा
जेष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक प्रदीप वर्मा ने बताया कि जब गन्ना पर्यवेक्षक खेतों में सर्वे करने पहुंचेंगे तो किसानों को सही जानकारी देनी होगी। साथ ही गन्ना क्षेत्रफल के संबंध में घोषणापत्र भी देना होगा। घोषणापत्र देने वाले किसान का मिल से सट्टा नहीं होगा। घोषणापत्र के साथ किसानों को आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक की पासबुक की फोटो कॉपी खसरा-खतौनी की नकल भी देनी होगी।

गन्ना विकास परिषद ने लक्सर क्षेत्र में गन्ना सर्वे शुरू कर दिया है। 42 गन्ना पर्यवेक्षकों 15 जुलाई तक 262 गांवों में गन्ना सर्वे का कार्य पूरा करना होगा। ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक ने सभी गन्ना पर्यवेक्षकों की बैठक लेकर उन्हें निष्पक्ष ढंग से गन्ना सर्वे का कार्य पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

गन्ना विकास परिषद की ओर से हर बार अप्रैल के आखिरी सप्ताह में गन्ना सर्वे का कार्य शुरू किया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना कर्फ्यू के चलते सर्वे लगभग एक माह की देरी से शुरू हो रहा है। ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक प्रदीप कुमार वर्मा ने बताया गन्ना विकास परिषद इस बार खुद किसानों के गन्ना सर्वे करा रहा है। मिल कर्मचारी गन्ना सर्वे के कार्य में हिस्सा नही लेंगे। गन्ना पर्यवेक्षक खेतों में पहुंचकर फीते व जंजीर के माध्यम से खेत की पैमाइश करेंगे। इस दौरान किसान खेतों में मौजूद रहकर गन्ना सर्वे कराएंगे। उन्होंने बताया कि सर्वे के लिए क्षेत्र को दो जोन में बांटा गया है। पहले जोन में 30 और दूसरे जोन में 12 गन्ना पर्यवेक्षक सर्वे करेंगे। लक्सर विकास समिति के विशेष सचिव गौतम सिंह नेगी ने कहा कि गन्ना सर्वे के कार्य का निरीक्षण भी किया जाएगा।

किसानों को ये देना होगा

जेष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक प्रदीप वर्मा ने बताया कि जब गन्ना पर्यवेक्षक खेतों में सर्वे करने पहुंचेंगे तो किसानों को सही जानकारी देनी होगी। साथ ही गन्ना क्षेत्रफल के संबंध में घोषणापत्र भी देना होगा। घोषणापत्र देने वाले किसान का मिल से सट्टा नहीं होगा। घोषणापत्र के साथ किसानों को आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक की पासबुक की फोटो कॉपी खसरा-खतौनी की नकल भी देनी होगी।



Source link

Leave a Reply

Latest News

क्षत्रिय विकास महासभा उत्तराखंड ने किया पौधरोपण

रुड़की। पृथ्वीराज चौहान क्षत्रिय विकास महासभा उत्तराखंड ने नहर किनारे पौधरोपण किया। महासभा के अध्यक्ष यशवंत सिंह चौहान...

गाडा अंजुमन चुनाव बहिष्कार करेगी

भगवानपुर, संवाददाता। कस्बे में रविवार को ऑल इंडिया गाडा अंजुमन के बैनर तले आयोजित महापंचायत में छह सितम्बर को सहारनपुर में होने वाले...

More Articles Like This