हाईवे क्रासिंग पर ओवरब्रिज बनाने की मांग

Must Read

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य...

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

बस स्टैंड से हाईवे पर जाने के लिए ओवरब्रिज नहीं होने कस्बे के लोगों को भारी परेशानी हो रही है। यहां आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं, जिसमें कई लोगों की जान जा चुकी है। यहां लालबत्ती या सिग्नल का भी कोई इंतजाम नहीं होने से लोगों में रोष व्याप्त है। समस्या के समाधान के लिए कस्बावासियों ने हाईवे क्रॉसिंग पर ओवरब्रिज बनाने की मांग उठाई है।
मंगलौर के बस स्टैंड से हाईवे पर जाने के लिए कोई ओवरब्रिज नहीं है। यहां कोई लाल बत्ती या सिग्नल भी नहीं लगाया गया है। ऐसे में हाईवे पर फर्राटा भरने वाले वाहनों के चलते बस स्टैंड के पास आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है। लंढौरा रोड से हाईवे पर जाने के दौरान वाहन चालक हाईवे पर दौड़ रहे वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। पिछले पिछले कुछ माह में यहां कई सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी हैं, जिसमें करीब आधा दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है। कई बार तो पैदल सड़क पार करने वाले भी वाहनों की चपेट में आकर घायल हो चुके हैं। इससे कस्बे के लोगों में एनएचएआई और प्रशासन के खिलाफ रोष है। कई लोग प्रशासन को इस बारे में कई बार अवगत भी करा चुके हैं, लेकिन अभी तक इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। लोगों ने शीघ्र यहां ओवरब्रिज बनाने की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है।

लंढौरा रोड से हाईवे पर जाने के लिए हर समय सड़क दुर्घटना का खतरा मंडराता रहता है। प्रशासन और एनएचएआई के अधिकारियों को शीघ्र ही यहां पर ओवरब्रिज का निर्माण करने के साथ-साथ सिग्नल भी लगाना चाहिए ताकि सड़क दुर्घटनाओं में असमय हो रही मृत्यु को रोका जा सके।
-वसीम अब्बासी, समाजसेवी

बस स्टैंड पर जाना खतरे से खाली नहीं है। यहां आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है, जिसमें कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। प्रशासन को शीघ्र ही इस ओर ध्यान देना चाहिए और यहां पर और ब्रिज का निर्माण कराना चाहिए। अन्यथा लोगों को आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा।
-डॉ. फैजान अली खान, चिकित्सक

कई बार प्रशासनिक और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को इस संबंध में अवगत कराया जा चुका है, लेकिन कस्बा मंगलौर के बस स्टैंड पर और ब्रिज का निर्माण नहीं कराया गया है। यहां सिग्नल आदि की भी कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं।
-मोहम्मद उस्मान, सीएससी संचालक

हाईवे पर लंढौरा रोड से जाना पड़ता है। हाईवे पर वाहन तेजी से दौड़ते हैं। जैसे ही कोई भी व्यक्ति लंढौरा रोड से हाईवे पर चढ़ने की कोशिश करता है तो हाईवे पर दौड़ने वाले वाहन उसे अपनी चपेट में ले लेते हैं, जिस कारण आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं।
-रिजवान अली, शिक्षक

जब से हाईवे बना है, यहां लगातार सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं। महीने में एक-दो व्यक्तियों की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है। प्रशासन और एनएचएआई के अधिकारियों को कई बार इसके लिए पत्र भी लिखे गए हैं, लेकिन अभी तक किसी भी अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया है।
-फहीम अब्बासी, शिक्षक

आनेजाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हर समय सड़क दुर्घटना का डर रहता है। हाईवे पर जाने के लिए पुलिस चौकी से लेकर हाईवे तक ओवरब्रिज का निर्माण हो ताकि सड़क दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या कम हो जाए। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए।
-मोहसिन अंसारी, समाजसेवी

बस स्टैंड से हाईवे पर जाने के लिए ओवरब्रिज नहीं होने कस्बे के लोगों को भारी परेशानी हो रही है। यहां आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं, जिसमें कई लोगों की जान जा चुकी है। यहां लालबत्ती या सिग्नल का भी कोई इंतजाम नहीं होने से लोगों में रोष व्याप्त है। समस्या के समाधान के लिए कस्बावासियों ने हाईवे क्रॉसिंग पर ओवरब्रिज बनाने की मांग उठाई है।

मंगलौर के बस स्टैंड से हाईवे पर जाने के लिए कोई ओवरब्रिज नहीं है। यहां कोई लाल बत्ती या सिग्नल भी नहीं लगाया गया है। ऐसे में हाईवे पर फर्राटा भरने वाले वाहनों के चलते बस स्टैंड के पास आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है। लंढौरा रोड से हाईवे पर जाने के दौरान वाहन चालक हाईवे पर दौड़ रहे वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। पिछले पिछले कुछ माह में यहां कई सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी हैं, जिसमें करीब आधा दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है। कई बार तो पैदल सड़क पार करने वाले भी वाहनों की चपेट में आकर घायल हो चुके हैं। इससे कस्बे के लोगों में एनएचएआई और प्रशासन के खिलाफ रोष है। कई लोग प्रशासन को इस बारे में कई बार अवगत भी करा चुके हैं, लेकिन अभी तक इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। लोगों ने शीघ्र यहां ओवरब्रिज बनाने की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है।



लंढौरा रोड से हाईवे पर जाने के लिए हर समय सड़क दुर्घटना का खतरा मंडराता रहता है। प्रशासन और एनएचएआई के अधिकारियों को शीघ्र ही यहां पर ओवरब्रिज का निर्माण करने के साथ-साथ सिग्नल भी लगाना चाहिए ताकि सड़क दुर्घटनाओं में असमय हो रही मृत्यु को रोका जा सके।

-वसीम अब्बासी, समाजसेवी



बस स्टैंड पर जाना खतरे से खाली नहीं है। यहां आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है, जिसमें कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। प्रशासन को शीघ्र ही इस ओर ध्यान देना चाहिए और यहां पर और ब्रिज का निर्माण कराना चाहिए। अन्यथा लोगों को आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा।

-डॉ. फैजान अली खान, चिकित्सक



कई बार प्रशासनिक और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को इस संबंध में अवगत कराया जा चुका है, लेकिन कस्बा मंगलौर के बस स्टैंड पर और ब्रिज का निर्माण नहीं कराया गया है। यहां सिग्नल आदि की भी कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं।

-मोहम्मद उस्मान, सीएससी संचालक


हाईवे पर लंढौरा रोड से जाना पड़ता है। हाईवे पर वाहन तेजी से दौड़ते हैं। जैसे ही कोई भी व्यक्ति लंढौरा रोड से हाईवे पर चढ़ने की कोशिश करता है तो हाईवे पर दौड़ने वाले वाहन उसे अपनी चपेट में ले लेते हैं, जिस कारण आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं।

-रिजवान अली, शिक्षक



जब से हाईवे बना है, यहां लगातार सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं। महीने में एक-दो व्यक्तियों की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है। प्रशासन और एनएचएआई के अधिकारियों को कई बार इसके लिए पत्र भी लिखे गए हैं, लेकिन अभी तक किसी भी अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया है।

-फहीम अब्बासी, शिक्षक

आनेजाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हर समय सड़क दुर्घटना का डर रहता है। हाईवे पर जाने के लिए पुलिस चौकी से लेकर हाईवे तक ओवरब्रिज का निर्माण हो ताकि सड़क दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या कम हो जाए। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

-मोहसिन अंसारी, समाजसेवी



Source link

Leave a Reply

Latest News

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य शुरू कर... Source link

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट खोली जाएगी। इसके लिए भवन...

यूरिया न मिलने पर बहादरपुर में किसानों का धरना

पूरे जिले में इस समय यूरिया खाद को लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। रविवार शाम को इफको से रैक आने पर सभी... Source...

हज यात्रा 2021: हज यात्रियों को लगातार दूसरे साल लगा झटका, यात्रा हुई रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिरान कलियर (रुड़की) Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 14 Jun 2021 11:00 PM IST सार पिछले साल कोरोना के चलते...

More Articles Like This