साप्ताहिक कर्फ्यू से शहर और देहात तक पसरा सन्नाटा

Must Read

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य...

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू में शहर से लेकर देहात तक बाजारों और गलियों में सन्नाटा पसरा रहा। हाईवे पर भी वाहनों की आवाजाही कम रही। रोडवेज बसें सड़कों पर दौड़ती नजर आई, लेकिन निजी वाहनों की संख्या सड़कों पर कम ही दिखाई दी। वहीं, शहर और देहात में मेडिकल और डेयरी ही खुली रहीं। अन्य दुकानें पूरी तरह से बंद रहीं। कर्फ्यू को लेकर पुलिस भी अलर्ट रही। पुलिस की सरकारी गाड़ियां सड़कों पर पूरे दिन दौड़ती रहीं और लोगों से घरों में ही रहने की अपील करती रही।
रविवार को साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू का शहर और देहात में असर दिखाई दिया। सुबह के समय दूध की डेयरी पर लोगों की भीड़ नजर आई। सब्जी मंडी में भी सब्जी लेने के लिए लोगों की भीड़ रही। इस दौरान बिना मास्क के किसी के भी सब्जी मंडी में प्रवेश पर रोक रही। सिविल लाइंस बाजार, मेन बाजार, बीटी गंज में दुकानें पूरी तरह बंद रहीं। सड़कों पर लोगों की आवाजाही भी बहुत कम रही। लोग कर्फ्यू के चलते घर से बाहर कम ही निकले। उधर, कर्फ्यू को सफल बनाने के लिए सिविल लाइंस और गंगनहर कोतवाली पुलिस अपने-अपने क्षेत्र में एनाउंसमेंट कर गश्त करती रही। बेवजह सड़क पर बिना मास्क लगाकर घूमने वालों पर पुलिस सख्ती से पेश आई। बिना मास्क के घूमने वालों का पुलिस ने चालान किया। एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल ने बताया कि कोविड कर्फ्यू के लिए पुलिस को शहर और देहात में गश्त करने के निर्देश दिए गए थे। आवश्यक सेवाएं छोड़कर अन्य के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश थे।
रोडवेज बसों में रही कम भीड़
रविवार को रोडवेज बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा रहा। रोडवेज बस स्टैंड पर बसें यात्रियों की राह ताकती रही। बसों में चार-पांच सवारी ही बैठी नजर आई। वहीं, प्राइवेट यात्री वाहन पूरी तरह से बंद रहे। हालांकि, शहर में दो-चार ई-रिक्शा दौड़ती नजर आई, जिन्हें पुलिस ने बंद करवा दिया और घर वापस भेज दिया।
फलों और सब्जी के ठेले लगे रहे
शहर में नगर निगम, मेन बाजार, रामपुर चुंगी समेत कई जगहों पर फलों और सब्जी के ठेले लगे रहे। नवरात्र और रमजान के चलते ठेले लगाने वालों को थोड़ी राहत दी गई। इन ठेलों पर सब्जी और फल लेने वाले दिनभर आते-जाते रहे। भीड़भाड़ लगने पर पुलिस ने सख्ती की और उनके खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी।
पुलिस-प्रशासन ने संभाला मोर्चा
लक्सर। साप्ताहिक कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पुलिस-प्रशासन ने मोर्चा संभालते हुए बेवजह घूमने वालों पर सख्ती दिखाते हुए उन्हें वापस घर लौटाया। सीओ विवेक कुमार और कोतवाली प्रभारी प्रदीप चौहान ने बताया कि सभी चौकी क्षेत्रों के दरोगाओं व पुलिस बीट के पुलिसकर्मियों को कर्फ्यू का पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम शेलेंद्र सिंह ने बताया कि पालन नहीं करने वाले लोगों से सख्ती से निपटा गया। वहीं दूसरी ओर नगर पालिका ने कस्बे में अभियान चलाया। इस दौरान नगर पालिका ने पांच सौ से अधिक लोगों को मास्क वितरित किए। नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी मोहम्मद गौहर हयात ने कहा कि हम सभी को अपने घरों पर ही रहकर कोरोना की चैन को तोड़ने में सहयोग करना चाहिए।
खानपुर में भी सुनसान रहे बाजार
खानपुर। रविवार को कस्बे और गोवर्धनपुर के बाजारों में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। फल सब्जी और मेडिकल जैसी जरूरी सामानों की दुकान खुली रहीं। बाजारों में परचून, रेडीमेड गारमेंट्स, जनरल स्टोर, लोहे, प्लास्टिक आदि सामानों की दुकानें दिनभर बंद रहीं। वहीं, पुलिस ने खानपुर-पुरकाजी बॉर्डर पर बिना मास्क आने जाने वाले राहगीरों के चालान किए। खानपुर थानाध्यक्ष अभिनव शर्मा ने बताया कि पुलिस ने पूरा दिन बार्डर पर बिना मास्क वाले राहगीरों के चालान किए गए। वहीं, सुल्तानपुर में भी कर्फ्यू का पूरा असर दिखाई दिया। बाजार में सन्ना पसरा रहा और सभी दुकानें बंद रही।
बाजारों में कर्फ्यू और गांवों में रहा बेअसर
झबरेड़ा। क्षेत्र में रविवार का कर्फ्यू केवल बाजारों में ही दिखाई दिया। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में लोग पूरे दिन खेतों में काम करते रहे। झबरेड़ा में अधिकतर दुकानें बंद रही। मात्र मेडिकल स्टोर व डेयरी की दुकानें ही खुली रही। कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पुलिस दिनभर गश्त करती रही। साथ ही लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील करती रही। पुलिस ने बिना मास्क पहनने वालों के चालान काटे।
कर्फ्यू से सड़कों पर रहा सन्नाटा
मंगलौर/नारसन। रविवार को साप्ताहिक कर्फ्यू का मंगलौर और नारसन कस्बे में पूरा असर दिखा। बाजार में मेडिकल के अलावा कोई दुकान नहीं खुली। इस बीच लोग घर से बाहर कम ही नजर आए। वहीं, पुलिस भी क्षेत्र में गश्त करती रही और लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील करती रही। इस बीच अनावश्यक दुकान खोलने वालों पर पुलिस ने सख्ती दिखाई। साथ ही बिना मास्क के घूमने वालों के चालान किए। सीओ पंकज गैरोला ने बताया कि लोगों से अपील की जा रही है कि वह घर में रहें और सुरक्षित रहें। अगर जरूरी काम हो तो ही घर से बाहर निकले। उन्होंने लोगों से पुलिस का सहयोग करने की अपील की।

साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू में शहर से लेकर देहात तक बाजारों और गलियों में सन्नाटा पसरा रहा। हाईवे पर भी वाहनों की आवाजाही कम रही। रोडवेज बसें सड़कों पर दौड़ती नजर आई, लेकिन निजी वाहनों की संख्या सड़कों पर कम ही दिखाई दी। वहीं, शहर और देहात में मेडिकल और डेयरी ही खुली रहीं। अन्य दुकानें पूरी तरह से बंद रहीं। कर्फ्यू को लेकर पुलिस भी अलर्ट रही। पुलिस की सरकारी गाड़ियां सड़कों पर पूरे दिन दौड़ती रहीं और लोगों से घरों में ही रहने की अपील करती रही।

रविवार को साप्ताहिक कोविड कर्फ्यू का शहर और देहात में असर दिखाई दिया। सुबह के समय दूध की डेयरी पर लोगों की भीड़ नजर आई। सब्जी मंडी में भी सब्जी लेने के लिए लोगों की भीड़ रही। इस दौरान बिना मास्क के किसी के भी सब्जी मंडी में प्रवेश पर रोक रही। सिविल लाइंस बाजार, मेन बाजार, बीटी गंज में दुकानें पूरी तरह बंद रहीं। सड़कों पर लोगों की आवाजाही भी बहुत कम रही। लोग कर्फ्यू के चलते घर से बाहर कम ही निकले। उधर, कर्फ्यू को सफल बनाने के लिए सिविल लाइंस और गंगनहर कोतवाली पुलिस अपने-अपने क्षेत्र में एनाउंसमेंट कर गश्त करती रही। बेवजह सड़क पर बिना मास्क लगाकर घूमने वालों पर पुलिस सख्ती से पेश आई। बिना मास्क के घूमने वालों का पुलिस ने चालान किया। एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल ने बताया कि कोविड कर्फ्यू के लिए पुलिस को शहर और देहात में गश्त करने के निर्देश दिए गए थे। आवश्यक सेवाएं छोड़कर अन्य के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश थे।

रोडवेज बसों में रही कम भीड़

रविवार को रोडवेज बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा रहा। रोडवेज बस स्टैंड पर बसें यात्रियों की राह ताकती रही। बसों में चार-पांच सवारी ही बैठी नजर आई। वहीं, प्राइवेट यात्री वाहन पूरी तरह से बंद रहे। हालांकि, शहर में दो-चार ई-रिक्शा दौड़ती नजर आई, जिन्हें पुलिस ने बंद करवा दिया और घर वापस भेज दिया।

फलों और सब्जी के ठेले लगे रहे

शहर में नगर निगम, मेन बाजार, रामपुर चुंगी समेत कई जगहों पर फलों और सब्जी के ठेले लगे रहे। नवरात्र और रमजान के चलते ठेले लगाने वालों को थोड़ी राहत दी गई। इन ठेलों पर सब्जी और फल लेने वाले दिनभर आते-जाते रहे। भीड़भाड़ लगने पर पुलिस ने सख्ती की और उनके खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी।

पुलिस-प्रशासन ने संभाला मोर्चा

लक्सर। साप्ताहिक कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पुलिस-प्रशासन ने मोर्चा संभालते हुए बेवजह घूमने वालों पर सख्ती दिखाते हुए उन्हें वापस घर लौटाया। सीओ विवेक कुमार और कोतवाली प्रभारी प्रदीप चौहान ने बताया कि सभी चौकी क्षेत्रों के दरोगाओं व पुलिस बीट के पुलिसकर्मियों को कर्फ्यू का पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम शेलेंद्र सिंह ने बताया कि पालन नहीं करने वाले लोगों से सख्ती से निपटा गया। वहीं दूसरी ओर नगर पालिका ने कस्बे में अभियान चलाया। इस दौरान नगर पालिका ने पांच सौ से अधिक लोगों को मास्क वितरित किए। नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी मोहम्मद गौहर हयात ने कहा कि हम सभी को अपने घरों पर ही रहकर कोरोना की चैन को तोड़ने में सहयोग करना चाहिए।

खानपुर में भी सुनसान रहे बाजार

खानपुर। रविवार को कस्बे और गोवर्धनपुर के बाजारों में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। फल सब्जी और मेडिकल जैसी जरूरी सामानों की दुकान खुली रहीं। बाजारों में परचून, रेडीमेड गारमेंट्स, जनरल स्टोर, लोहे, प्लास्टिक आदि सामानों की दुकानें दिनभर बंद रहीं। वहीं, पुलिस ने खानपुर-पुरकाजी बॉर्डर पर बिना मास्क आने जाने वाले राहगीरों के चालान किए। खानपुर थानाध्यक्ष अभिनव शर्मा ने बताया कि पुलिस ने पूरा दिन बार्डर पर बिना मास्क वाले राहगीरों के चालान किए गए। वहीं, सुल्तानपुर में भी कर्फ्यू का पूरा असर दिखाई दिया। बाजार में सन्ना पसरा रहा और सभी दुकानें बंद रही।

बाजारों में कर्फ्यू और गांवों में रहा बेअसर

झबरेड़ा। क्षेत्र में रविवार का कर्फ्यू केवल बाजारों में ही दिखाई दिया। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में लोग पूरे दिन खेतों में काम करते रहे। झबरेड़ा में अधिकतर दुकानें बंद रही। मात्र मेडिकल स्टोर व डेयरी की दुकानें ही खुली रही। कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पुलिस दिनभर गश्त करती रही। साथ ही लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील करती रही। पुलिस ने बिना मास्क पहनने वालों के चालान काटे।

कर्फ्यू से सड़कों पर रहा सन्नाटा

मंगलौर/नारसन। रविवार को साप्ताहिक कर्फ्यू का मंगलौर और नारसन कस्बे में पूरा असर दिखा। बाजार में मेडिकल के अलावा कोई दुकान नहीं खुली। इस बीच लोग घर से बाहर कम ही नजर आए। वहीं, पुलिस भी क्षेत्र में गश्त करती रही और लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील करती रही। इस बीच अनावश्यक दुकान खोलने वालों पर पुलिस ने सख्ती दिखाई। साथ ही बिना मास्क के घूमने वालों के चालान किए। सीओ पंकज गैरोला ने बताया कि लोगों से अपील की जा रही है कि वह घर में रहें और सुरक्षित रहें। अगर जरूरी काम हो तो ही घर से बाहर निकले। उन्होंने लोगों से पुलिस का सहयोग करने की अपील की।



Source link

Leave a Reply

Latest News

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य शुरू कर... Source link

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट खोली जाएगी। इसके लिए भवन...

यूरिया न मिलने पर बहादरपुर में किसानों का धरना

पूरे जिले में इस समय यूरिया खाद को लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। रविवार शाम को इफको से रैक आने पर सभी... Source...

हज यात्रा 2021: हज यात्रियों को लगातार दूसरे साल लगा झटका, यात्रा हुई रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिरान कलियर (रुड़की) Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 14 Jun 2021 11:00 PM IST सार पिछले साल कोरोना के चलते...

More Articles Like This