शेरपुर गांव ने पेश की कोरोना जागरूकता की मिसाल

Must Read

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य...

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट...


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

खादर क्षेत्र के सबसे पिछड़े गांव शेरपुर बेला के ग्रामीणों ने कोरोना जागरूकता की मिसाल पेश की है। जहां एक ओर अधिकांश गांवों में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंचने पर भी ग्रामीण जांच कराने से कतरा रहे हैं तो वहीं शेरपुर बेला के ग्रामीणों ने अधिकारियों से अनुरोध कर शिविर लगवाया। करीब 1200 की आबादी वाले इस गांव में 250 ग्रामीणों की जांच हो चुकी है। इनमें 13 की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। क्षेत्र के गोवर्धनपुर गांव को छोड़ दें तो अन्य गांवों में जांच का आंकड़ा 100 के आसपास ही सीमित है।
खानपुर ब्लॉक मुख्यालय से लगभग 12 किमी दूर बाणगंगा नदी के किनारे स्थित शेरपुर बेला गांव माडाबेला ग्राम पंचायत का उप गांव है। यह क्षेत्र में सबसे पिछड़े गांव के रूप में जाना जाता है। गांव में 791 मतदाता हैं। बरसात के दिनों में आने वाली बाढ़ में सबसे ज्यादा यही गांव प्रभावित होता है। इसके चलते लोगों की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है, लेकिन शिक्षा और चिकित्सा सुविधाओं से महरूम इस गांव के लोगों ने कोरोना के प्रति जागरूकता दिखाई है। ग्रामीणों के अनुरोध पर जब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में शिविर लगाया तो लोगों ने घरों से निकलकर खुद जांच करानी शुरू कर दी और देखते ही देखते गांव के ढाई सौ लोगों ने तीन दिन में जांच करा ली।
खानपुर सीएचसी प्रभारी डॉ. विनीत कुमार ने बताया कि शेरपुर बेला गांव में कुछ लोगों को बुखार की शिकायत थी। इस पर ग्रामीणों ने खुद कोरोना की जांच कराने का अनुरोध किया था। यही नहीं, ग्रामीणों ने दूसरे दिन भी जांच जारी रखने की मांग की थी। तीन दिन गांव में शिविर लगाकर 250 लोगों की कोरोना जांच की गई है। डॉ. विनीत कुमार का कहना है कि जहां लोग कोरोना की जांच कराने से कतरा रहे हैं तो वहीं शेरपुर बेला के ग्रामीण कोरोना की जांच कराकर गांव के साथ-साथ शहर के लोगों के लिए भी नजीर बन रहे हैं। उन्होंने बताया कि यहां अब तक 13 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। सभी को होम आइसोलेट कर दवा की किट उपलब्ध करा दी गई है। गांव की निवर्तमान प्रधान वर्षा देवी ने बताया कि ग्रामीणों के सकारात्मक रवैये से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिलेगी।

यहां हुई थी 400 की जांच
गोवर्धनपुर गांव में करीब डेढ़ महीने पूर्व कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में 15 छात्राओं के संक्रमित पाए जाने पर कैंप लगाकर 400 ग्रामीणों की की जांच की गई थी। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, लालचंद वाला गांव की करीब 4000 की आबादी में मात्र 200 की जांच हो पाई है। पोडोवाली गांव में करीब 2200 की आबादी में 100 लोगों की जांच हुई है। कलसिया और रहीमपुर गांव में भी करीब 100-100 लोगों की जांच हो पाई है।

खादर क्षेत्र के सबसे पिछड़े गांव शेरपुर बेला के ग्रामीणों ने कोरोना जागरूकता की मिसाल पेश की है। जहां एक ओर अधिकांश गांवों में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंचने पर भी ग्रामीण जांच कराने से कतरा रहे हैं तो वहीं शेरपुर बेला के ग्रामीणों ने अधिकारियों से अनुरोध कर शिविर लगवाया। करीब 1200 की आबादी वाले इस गांव में 250 ग्रामीणों की जांच हो चुकी है। इनमें 13 की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। क्षेत्र के गोवर्धनपुर गांव को छोड़ दें तो अन्य गांवों में जांच का आंकड़ा 100 के आसपास ही सीमित है।

खानपुर ब्लॉक मुख्यालय से लगभग 12 किमी दूर बाणगंगा नदी के किनारे स्थित शेरपुर बेला गांव माडाबेला ग्राम पंचायत का उप गांव है। यह क्षेत्र में सबसे पिछड़े गांव के रूप में जाना जाता है। गांव में 791 मतदाता हैं। बरसात के दिनों में आने वाली बाढ़ में सबसे ज्यादा यही गांव प्रभावित होता है। इसके चलते लोगों की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है, लेकिन शिक्षा और चिकित्सा सुविधाओं से महरूम इस गांव के लोगों ने कोरोना के प्रति जागरूकता दिखाई है। ग्रामीणों के अनुरोध पर जब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में शिविर लगाया तो लोगों ने घरों से निकलकर खुद जांच करानी शुरू कर दी और देखते ही देखते गांव के ढाई सौ लोगों ने तीन दिन में जांच करा ली।

खानपुर सीएचसी प्रभारी डॉ. विनीत कुमार ने बताया कि शेरपुर बेला गांव में कुछ लोगों को बुखार की शिकायत थी। इस पर ग्रामीणों ने खुद कोरोना की जांच कराने का अनुरोध किया था। यही नहीं, ग्रामीणों ने दूसरे दिन भी जांच जारी रखने की मांग की थी। तीन दिन गांव में शिविर लगाकर 250 लोगों की कोरोना जांच की गई है। डॉ. विनीत कुमार का कहना है कि जहां लोग कोरोना की जांच कराने से कतरा रहे हैं तो वहीं शेरपुर बेला के ग्रामीण कोरोना की जांच कराकर गांव के साथ-साथ शहर के लोगों के लिए भी नजीर बन रहे हैं। उन्होंने बताया कि यहां अब तक 13 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। सभी को होम आइसोलेट कर दवा की किट उपलब्ध करा दी गई है। गांव की निवर्तमान प्रधान वर्षा देवी ने बताया कि ग्रामीणों के सकारात्मक रवैये से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिलेगी।



यहां हुई थी 400 की जांच

गोवर्धनपुर गांव में करीब डेढ़ महीने पूर्व कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में 15 छात्राओं के संक्रमित पाए जाने पर कैंप लगाकर 400 ग्रामीणों की की जांच की गई थी। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, लालचंद वाला गांव की करीब 4000 की आबादी में मात्र 200 की जांच हो पाई है। पोडोवाली गांव में करीब 2200 की आबादी में 100 लोगों की जांच हुई है। कलसिया और रहीमपुर गांव में भी करीब 100-100 लोगों की जांच हो पाई है।



Source link

Leave a Reply

Latest News

आपदा में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भंडारा

वर्ष 2013 में केदारनाथ में आई आपदा एवं वर्तमान कोरोना महामारी में मृतकों आत्माओं की शांति हेतु दुर्गा...

कोरोना संक्रमण कम होते ही विकास कार्यो ने पकड़ी गति

निर्माण विभाग ने मालवीय चौक से गणेशपुर होते हुए रेलवे स्टेशन को जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य शुरू कर... Source link

सिविल अस्पताल में खुलेगी नवजात शिशुओं के इलाज की यूनिट

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। सिविल अस्पताल में नवजात शिशुओं के इलाज के लिए स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट खोली जाएगी। इसके लिए भवन...

यूरिया न मिलने पर बहादरपुर में किसानों का धरना

पूरे जिले में इस समय यूरिया खाद को लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। रविवार शाम को इफको से रैक आने पर सभी... Source...

हज यात्रा 2021: हज यात्रियों को लगातार दूसरे साल लगा झटका, यात्रा हुई रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिरान कलियर (रुड़की) Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 14 Jun 2021 11:00 PM IST सार पिछले साल कोरोना के चलते...

More Articles Like This