पिरान कलियर : लंबी बीमारी के बाद साबिर पाक के सज्जादानशीन का निधन, देश-विदेश के मुरीदों में शोक की लहर

Must Read

औद्योगिक क्षेत्र का ड्रेनेज प्लान तीन-चार चरणों में बनेगा

देहरादून में मुख्यमंत्री और सचिवों के साथ बैठक में उद्योगों की समस्या रखी। भगवानपुर में ड्रेनेज प्लान तीन-चार...

महिला मरीज के तीमारदार ने वार्ड में हंगामा किया

जबकि अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि महिला वार्ड में व्यक्ति कहने के बाद भी बाहर नहीं जा...

वैक्सीन लगा रहे कर्मचारियों की सेवा को आगे आया सत्संग भवन

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। कोरोना महामारी में जरूरतमंदों तक भोजन और राशन पहुंचकर समाज सेवा की मिशाल...


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, रुड़की
Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal
Updated Wed, 19 May 2021 10:50 AM IST

सार

साबिर पाक परिसर में किया गया सुपुर्द-ए-खाक, देश-विदेश के मुरीदों में शोक की लहर, दरगाह साबिर पाक के 16वें सज्जादानशीन थे हजरत शाह मंसूर एजाज कुद्दूशी साबरी।

16वें सज्जादानशीन हजरत शाह मंसूर एजाज कुद्दूशी साबरी
– फोटो : फाइल फोटो

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

विश्व प्रसिद्ध दरगाह हजरत मखदूम अलाउद्दीन अली अहमद साबिर पाक के 16वें सज्जादानशीन हजरत शाह मंसूर एजाज कुद्दूशी साबरी का लंबी बीमारी के बाद देहरादून के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। इसकी सूचना मिलते ही सूफीवाद मानने वाले लोगों में शोक की लहर दौड़ गई। साथ ही देश-विदेश में उनके मुरीद लोगों में शोक व्याप्त है। मंगलवार को बाद नमाज मगरिब उन्हें दरगाह साबिर पाक के परिसर में सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

पिरान कलियर स्थित दरगाह साबिर पाक के सज्जादानशीन शाह मंसूर एजाज साबरी (80) पिछले लगभग 18 वर्षों से पैरालाइसिस से ग्रस्त थे। इसका लगातार उपचार चल रहा था। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें देहरादून के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां सोमवार देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके निधन की खबर सुनकर क्षेत्र के लोगों और मुरीदों में शोक की लहर दौड़ गई।

मंगलवार को बाद नमाज मगरिब उन्हें दरगाह साबिर पाक के परिसर में सपुर्द-ए-खाक किया गया। इससे पहले परंपराओं के अनुसार नायब सज्जादानशीन शाह अली एजाज साबरी को दरगाह साबिर पाक का 17वां सज्जादानशीन नियुक्त किया गया। इस दौरान हिंदुस्तान की दीगर खानगाहों के सज्जादानशीनों, उनके खानदान और क्षेत्र के मुअज्जिज लोगों ने उनकी दस्तारबंदी की। उन्होंने कोविड गाइडलाइन का हवाला देते हुए भारी संख्या में मुरीदों को फोन कर जनाजे में न आने की अपील की। लिहाजा सीमित संख्या में लोग जनाजे में शामिल हुए।

विदेशों में फैलाई सूफीवाद की धारा

वर्ष 1984 में अपने पिता तत्कालीन सज्जादानशीन शाह एजाज साबरी के निधन के बाद शाह मंसूर एजाज साबरी को दरगाह साबिर पाक का 16वां सज्जादानशीन नियुक्त किया गया था। लगभग 37 वर्षों के कार्यकाल में उन्होंने हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि कई विदेशी मुल्कों में जाकर सूफीवाद के प्रसार-प्रचार में अहम भूमिका निभाई। साथ ही दरगाह साबिर की सभी रस्मों को बखूबी अंजाम दिया। शाह मंसूर एजाज साबरी के देश ही नही विदेशों में भी हजारों की संख्या में मुरीद हैं।

विस्तार

विश्व प्रसिद्ध दरगाह हजरत मखदूम अलाउद्दीन अली अहमद साबिर पाक के 16वें सज्जादानशीन हजरत शाह मंसूर एजाज कुद्दूशी साबरी का लंबी बीमारी के बाद देहरादून के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। इसकी सूचना मिलते ही सूफीवाद मानने वाले लोगों में शोक की लहर दौड़ गई। साथ ही देश-विदेश में उनके मुरीद लोगों में शोक व्याप्त है। मंगलवार को बाद नमाज मगरिब उन्हें दरगाह साबिर पाक के परिसर में सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

पिरान कलियर स्थित दरगाह साबिर पाक के सज्जादानशीन शाह मंसूर एजाज साबरी (80) पिछले लगभग 18 वर्षों से पैरालाइसिस से ग्रस्त थे। इसका लगातार उपचार चल रहा था। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें देहरादून के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां सोमवार देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके निधन की खबर सुनकर क्षेत्र के लोगों और मुरीदों में शोक की लहर दौड़ गई।

मंगलवार को बाद नमाज मगरिब उन्हें दरगाह साबिर पाक के परिसर में सपुर्द-ए-खाक किया गया। इससे पहले परंपराओं के अनुसार नायब सज्जादानशीन शाह अली एजाज साबरी को दरगाह साबिर पाक का 17वां सज्जादानशीन नियुक्त किया गया। इस दौरान हिंदुस्तान की दीगर खानगाहों के सज्जादानशीनों, उनके खानदान और क्षेत्र के मुअज्जिज लोगों ने उनकी दस्तारबंदी की। उन्होंने कोविड गाइडलाइन का हवाला देते हुए भारी संख्या में मुरीदों को फोन कर जनाजे में न आने की अपील की। लिहाजा सीमित संख्या में लोग जनाजे में शामिल हुए।

विदेशों में फैलाई सूफीवाद की धारा

वर्ष 1984 में अपने पिता तत्कालीन सज्जादानशीन शाह एजाज साबरी के निधन के बाद शाह मंसूर एजाज साबरी को दरगाह साबिर पाक का 16वां सज्जादानशीन नियुक्त किया गया था। लगभग 37 वर्षों के कार्यकाल में उन्होंने हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि कई विदेशी मुल्कों में जाकर सूफीवाद के प्रसार-प्रचार में अहम भूमिका निभाई। साथ ही दरगाह साबिर की सभी रस्मों को बखूबी अंजाम दिया। शाह मंसूर एजाज साबरी के देश ही नही विदेशों में भी हजारों की संख्या में मुरीद हैं।



Source link

Leave a Reply

Latest News

औद्योगिक क्षेत्र का ड्रेनेज प्लान तीन-चार चरणों में बनेगा

देहरादून में मुख्यमंत्री और सचिवों के साथ बैठक में उद्योगों की समस्या रखी। भगवानपुर में ड्रेनेज प्लान तीन-चार...

महिला मरीज के तीमारदार ने वार्ड में हंगामा किया

जबकि अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि महिला वार्ड में व्यक्ति कहने के बाद भी बाहर नहीं जा रहा था। जबकि बाहर जाने...

वैक्सीन लगा रहे कर्मचारियों की सेवा को आगे आया सत्संग भवन

ख़बर सुनें ख़बर सुनें रुड़की। कोरोना महामारी में जरूरतमंदों तक भोजन और राशन पहुंचकर समाज सेवा की मिशाल पेश करने वाले संत निरंकारी...

हिंदी के पक्ष में बोलने पर अवंतिका रही अव्वलक

{"_id":"61422e4b8ebc3ed52e443379","slug":"avantika-topped-for-speaking-in-favor-of-hindi-roorkee-news-drn390506571","type":"story","status":"publish","title_hn":"u0939u093fu0902u0926u0940 u0915u0947 u092au0915u094du0937 u092eu0947u0902 u092cu094bu0932u0928u0947 u092au0930 u0905u0935u0902u0924u093fu0915u093e u0930u0939u0940 u0905u0935u094du0935u0932u0915","category":{"title":"City & states","title_hn":"u0936u0939u0930 u0914u0930 u0930u093eu091cu094du092f","slug":"city-and-states"}} रुड़की स्थित बीएसएम बीएड कालेज में हिंदी दिवस पर आयोजित प्रतियोगिता...

पदाधिकारियों को अनुशासन का पाठ पढ़ा गए महामंत्री

प्रदेश महामंत्री सुरेश भटट ने पदाधिकारियों को अनुशासन का पाठ पढ़ाया। बंद कमरे में करीब डेढ़ घंटे चली बैठक में उन्होंने राज्य सरकार...

More Articles Like This