डीआईजी ट्रैफिक के आदेश पर ‘ग्रीन’ नहीं हुए सिग्नल

Must Read

गाधारोणा में दो पक्षो में पथराव चार घायल

गाधारोणा में मस्जिद विवाद को लेकर दोनों पक्ष दोबारा फिर आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से हुए...

बांध से बन रही झीलें पैदा कर रही हानिकारक मीथेन गैस

ख़बर सुनें ख़बर सुनें जल विद्युत परियोजना के लिए बन रहे बांध और इनसे बनी कई किलोमीटर लंबी...

हड़कंप : लिब्बरहेड़ी पहुंची प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम

ख़बर सुनें ख़बर सुनें लिब्बरहेड़ी गांव में मात्र 15 दिन में 35 लोगाें की संदिग्ध मौत होने की...


रुड़की में बंद पड़ी ट्रैफिक लाइटें।
– फोटो : ROORKEE

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

डीआईजी ट्रैफिक केवल खुराना निर्देश के छह माह बाद भी रुड़की की खराब पड़ीं ट्रैफिक सिग्नल लाइटों को दुरुस्त नहीं किया गया है। कुंभ के दौरान इन लाइटों को ठीक नहीं कराने से करोड़ों की लागत से लगाई गईं लाइटें केवल शोपीस साबित हो रही हैं।
करीब चार साल पूर्व नगर निगम ने एक करोड़ की लागत से शहर के विभिन्न चौराहों पर यातायात संचालन के लिए ट्रैफिक सिग्नल लाइटें लगवाई थीं। दो साल पहले एडीबी की ओर से पेयजल लाइनों की खुदाई के चलते ट्रैफिक लाइटों की भूमिगत तारें क्षतिग्रस्त हो गई थीं। इसके बाद नगर निगम ने किसी तरह ठीक कराया, लेकिन इनके संचालन करने की जिम्मेदारी पुलिस-प्रशासन को हस्तांरित कर दी। हालांकि इसके बाद नगर निगम और पुलिस-प्रशासन एक-दूसरे पर जिम्मेदारी डालता रहा। करीब छह माह पूर्व प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों नवीन गुलाटी, रामगोपाल कंसल, राम गुप्ता आदि ने डीजीपी अशोक कुमार और डीआईजी ट्रैफिक केवल खुराना से मुलाकात कर ट्रैफिक लाइटों की समस्या की जानकारी दी। इसके बाद डीआईजी ट्रैफिक ने एसएसपी हरिद्वार को निर्देश जारी किए। एसएसपी के आदेश पर करीब दो सप्ताह पूर्व पुलिस और यातायात महकमा हरकत में आया और नगर निगम अधिकारियों के साथ लाइटों का निरीक्षण किया। इसके बाद नगर निगम ने पुलिस-प्रशासन को लाइटों का हस्तांतरण कर दिया। पुलिस को इन लाइटों को सुुचारु कराना है, लेकिन चार साल बाद भी नतीजा वही ढाक के तीन पात है।
जल्द जलेंगे डबल आर्म पोल लाइटें
नगर निगम की ओर से मुख्यमंत्री घोषणा के तहत दिल्ली-देहरादून हाईवे पर गणेशपुर पुल से रामपुर चुंगी तक डबल आर्म पोल लाइटें लगाई हैं। करीब एक करोड़ की लागत से स्थापित की गई लाइटों को सुचारु करने के लिए ऊर्जा निगम से कनेक्शन के लिए आवेदन किया गया था। सहायक नगर आयुक्त चंद्रकांत भट्ट ने बताया कि ऊर्जा निगम ने कनेक्शन के एवज में शुल्क की डिमांड भेजी है। जल्द ही शुल्क जमा करा दिया जाएगा। एक सप्ताह के भीतर लाइटें सुचारु कराने का प्रयास किया जाएगा।

नगर निगम की ओर से ट्रैफिक लाइटें हैंडओवर कर दी गई हैं। इस संबंध में नगर निगम के अधिकारियों से वार्ता भी हुई है। नगर निगम ने अभी इन लाइटों के बिजली का बिल बकाया जमा नहीं किया है। बिल जमा करने के बाद लाइटों को सुचारू करा दिया जाएगा।
-प्रमेंद्र डोबाल, एसपी देहात

डीआईजी ट्रैफिक केवल खुराना निर्देश के छह माह बाद भी रुड़की की खराब पड़ीं ट्रैफिक सिग्नल लाइटों को दुरुस्त नहीं किया गया है। कुंभ के दौरान इन लाइटों को ठीक नहीं कराने से करोड़ों की लागत से लगाई गईं लाइटें केवल शोपीस साबित हो रही हैं।

करीब चार साल पूर्व नगर निगम ने एक करोड़ की लागत से शहर के विभिन्न चौराहों पर यातायात संचालन के लिए ट्रैफिक सिग्नल लाइटें लगवाई थीं। दो साल पहले एडीबी की ओर से पेयजल लाइनों की खुदाई के चलते ट्रैफिक लाइटों की भूमिगत तारें क्षतिग्रस्त हो गई थीं। इसके बाद नगर निगम ने किसी तरह ठीक कराया, लेकिन इनके संचालन करने की जिम्मेदारी पुलिस-प्रशासन को हस्तांरित कर दी। हालांकि इसके बाद नगर निगम और पुलिस-प्रशासन एक-दूसरे पर जिम्मेदारी डालता रहा। करीब छह माह पूर्व प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों नवीन गुलाटी, रामगोपाल कंसल, राम गुप्ता आदि ने डीजीपी अशोक कुमार और डीआईजी ट्रैफिक केवल खुराना से मुलाकात कर ट्रैफिक लाइटों की समस्या की जानकारी दी। इसके बाद डीआईजी ट्रैफिक ने एसएसपी हरिद्वार को निर्देश जारी किए। एसएसपी के आदेश पर करीब दो सप्ताह पूर्व पुलिस और यातायात महकमा हरकत में आया और नगर निगम अधिकारियों के साथ लाइटों का निरीक्षण किया। इसके बाद नगर निगम ने पुलिस-प्रशासन को लाइटों का हस्तांतरण कर दिया। पुलिस को इन लाइटों को सुुचारु कराना है, लेकिन चार साल बाद भी नतीजा वही ढाक के तीन पात है।

जल्द जलेंगे डबल आर्म पोल लाइटें

नगर निगम की ओर से मुख्यमंत्री घोषणा के तहत दिल्ली-देहरादून हाईवे पर गणेशपुर पुल से रामपुर चुंगी तक डबल आर्म पोल लाइटें लगाई हैं। करीब एक करोड़ की लागत से स्थापित की गई लाइटों को सुचारु करने के लिए ऊर्जा निगम से कनेक्शन के लिए आवेदन किया गया था। सहायक नगर आयुक्त चंद्रकांत भट्ट ने बताया कि ऊर्जा निगम ने कनेक्शन के एवज में शुल्क की डिमांड भेजी है। जल्द ही शुल्क जमा करा दिया जाएगा। एक सप्ताह के भीतर लाइटें सुचारु कराने का प्रयास किया जाएगा।



नगर निगम की ओर से ट्रैफिक लाइटें हैंडओवर कर दी गई हैं। इस संबंध में नगर निगम के अधिकारियों से वार्ता भी हुई है। नगर निगम ने अभी इन लाइटों के बिजली का बिल बकाया जमा नहीं किया है। बिल जमा करने के बाद लाइटों को सुचारू करा दिया जाएगा।

-प्रमेंद्र डोबाल, एसपी देहात



Source link

Leave a Reply

Latest News

गाधारोणा में दो पक्षो में पथराव चार घायल

गाधारोणा में मस्जिद विवाद को लेकर दोनों पक्ष दोबारा फिर आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से हुए...

बांध से बन रही झीलें पैदा कर रही हानिकारक मीथेन गैस

ख़बर सुनें ख़बर सुनें जल विद्युत परियोजना के लिए बन रहे बांध और इनसे बनी कई किलोमीटर लंबी झीलों के पानी से उत्सर्जित...

हड़कंप : लिब्बरहेड़ी पहुंची प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम

ख़बर सुनें ख़बर सुनें लिब्बरहेड़ी गांव में मात्र 15 दिन में 35 लोगाें की संदिग्ध मौत होने की खबर प्रकाशित होते ही स्वास्थ्य...

4 वाहन सीज 35 लोगों के चालान

यातायात पुलिस की ओर से नगर निगम पुल के पास की गई चेकिंगयातायात पुलिस ने नगर निगम चौक के पास चेकिंग अभियान चलाया।...

पूर्व सीएम रावत ने भी कहा मंगलौर के चारों तरफ बिगड़ चुके हैं हालात

ख़बर सुनें ख़बर सुनें गांवों में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच बिगड़ रहे हालात को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने फेसबुक के...

More Articles Like This