उत्तराखंड में कोरोना : आईआईटी रुड़की में हॉस्टल के कमरे में क्वारंटीन छात्र की संदिग्ध मौत

Must Read

गाधारोणा में दो पक्षो में पथराव चार घायल

गाधारोणा में मस्जिद विवाद को लेकर दोनों पक्ष दोबारा फिर आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से हुए...

बांध से बन रही झीलें पैदा कर रही हानिकारक मीथेन गैस

ख़बर सुनें ख़बर सुनें जल विद्युत परियोजना के लिए बन रहे बांध और इनसे बनी कई किलोमीटर लंबी...

हड़कंप : लिब्बरहेड़ी पहुंची प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम

ख़बर सुनें ख़बर सुनें लिब्बरहेड़ी गांव में मात्र 15 दिन में 35 लोगाें की संदिग्ध मौत होने की...


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, रुड़की
Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal
Updated Thu, 15 Apr 2021 10:17 AM IST

सार

एमटेक सेकंड ईयर के छात्र प्रेम सिंह निवासी चंडीगढ़ 11 अप्रैल से कोरोना पॉजिटिव छात्रों के संपर्क में आने के चलते अपने कमरे क्वारंटीन थे, लेकिन उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव थी।

प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

आईआईटी रुड़की में हॉस्टल के अपने कमरे में क्वारंटीन एमटेक सेकंड ईयर का छात्र संदिग्ध हालात में बेहोश पाया गया। उसे पहले संस्थान के अस्पताल और फिर सिविल हॉस्पिटल रेफर किया गया।

उत्तराखंड में कोरोना: बेकाबू हो रहे हालात, 24 घंटे में आए 1953 नए संक्रमित, एक्टिव केस 10 हजार पार

यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि कोरोना पॉजिटिव छात्रों के संपर्क में आने के बाद उसकी आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। डॉक्टरों का कहना है कि छात्र के मुंह से झाग निकल रहे थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारण पता चलेगा।

आईआईटी रुड़की की मीडिया सेल की प्रभारी सोनिका श्रीवास्तव ने बताया कि एमटेक सेकंड ईयर के छात्र प्रेम सिंह निवासी चंडीगढ़ 11 अप्रैल से कोरोना पॉजिटिव छात्रों के संपर्क में आने के चलते अपने कमरे क्वारंटीन थे, लेकिन उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव थी। बुधवार दोपहर बाद वे अपने कक्ष में बेहोशी की हालत में पाए गए।

उत्तराखंड: कुंभ पर सीएम तीरथ बोले- मां गंगा का आशीर्वाद लेकर जाएं, नहीं फैलना चाहिए कोरोना

दूसरे छात्रों ने कमरे में देखा तो प्रेम सिंह बेहोश पड़े थे। इसके बाद संस्थान प्रशासन को सूचित किया गया। आनन-फानन उन्हें आईआईटी के अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां से उन्हें रुड़की सिविल अस्पताल रेफर कर दिया गया। यहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उन्होंने बताया कि परिजनों को सूचना दे दी गई है। सिविल अस्पताल के सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि मृतक के मुंह से झाग निकल रहे थे। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद मौत के सही कारणों का पता चल सकेगा। 

रुड़की शहर, नारसन और भगवानपुर में कोरोना के 164 नए मरीज मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा 46 संक्रमित आईआईटी रुड़की के शामिल हैं। जबकि, भगवानपुर में एक और नारसन में नौ लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

रुड़की में कोरोना के मामलों में लगातार हो रही बढ़ोतरी से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। इसके विपरीत बाजार में लोग कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। कोई न तो मास्क लगा रहा है और न ही शारीरिक दूरी का पालन कर रहा है।

स्वास्थ्य विभाग की सूची के अनुसार, बुधवार को भी रुड़की और आसपास इलाकों में कोरोना के 164 नए मामले सामने आए। इसमें सबसे ज्यादा 46 मरीज आईआईटी रुड़की के हैं। इनमें कुछ छात्र और कुछ फैकल्टी के लोग शामिल हैं।

सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि संक्रमितों को कोविड केयर सेंटर और होम आइसोलेशन में रखने की व्यवस्था की जा रही है। वहीं आईआईटी के कोरोना संक्रमितों को संस्थान के कोविड केयर सेंटर में भर्ती कर दिया गया है।

विस्तार

आईआईटी रुड़की में हॉस्टल के अपने कमरे में क्वारंटीन एमटेक सेकंड ईयर का छात्र संदिग्ध हालात में बेहोश पाया गया। उसे पहले संस्थान के अस्पताल और फिर सिविल हॉस्पिटल रेफर किया गया।

उत्तराखंड में कोरोना: बेकाबू हो रहे हालात, 24 घंटे में आए 1953 नए संक्रमित, एक्टिव केस 10 हजार पार

यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि कोरोना पॉजिटिव छात्रों के संपर्क में आने के बाद उसकी आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। डॉक्टरों का कहना है कि छात्र के मुंह से झाग निकल रहे थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारण पता चलेगा।

आईआईटी रुड़की की मीडिया सेल की प्रभारी सोनिका श्रीवास्तव ने बताया कि एमटेक सेकंड ईयर के छात्र प्रेम सिंह निवासी चंडीगढ़ 11 अप्रैल से कोरोना पॉजिटिव छात्रों के संपर्क में आने के चलते अपने कमरे क्वारंटीन थे, लेकिन उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव थी। बुधवार दोपहर बाद वे अपने कक्ष में बेहोशी की हालत में पाए गए।

उत्तराखंड: कुंभ पर सीएम तीरथ बोले- मां गंगा का आशीर्वाद लेकर जाएं, नहीं फैलना चाहिए कोरोना

दूसरे छात्रों ने कमरे में देखा तो प्रेम सिंह बेहोश पड़े थे। इसके बाद संस्थान प्रशासन को सूचित किया गया। आनन-फानन उन्हें आईआईटी के अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां से उन्हें रुड़की सिविल अस्पताल रेफर कर दिया गया। यहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उन्होंने बताया कि परिजनों को सूचना दे दी गई है। सिविल अस्पताल के सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि मृतक के मुंह से झाग निकल रहे थे। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद मौत के सही कारणों का पता चल सकेगा। 


आगे पढ़ें

रुड़की में 164 लोग फिर मिले कोरोना संक्रमित



Source link

Leave a Reply

Latest News

गाधारोणा में दो पक्षो में पथराव चार घायल

गाधारोणा में मस्जिद विवाद को लेकर दोनों पक्ष दोबारा फिर आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से हुए...

बांध से बन रही झीलें पैदा कर रही हानिकारक मीथेन गैस

ख़बर सुनें ख़बर सुनें जल विद्युत परियोजना के लिए बन रहे बांध और इनसे बनी कई किलोमीटर लंबी झीलों के पानी से उत्सर्जित...

हड़कंप : लिब्बरहेड़ी पहुंची प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम

ख़बर सुनें ख़बर सुनें लिब्बरहेड़ी गांव में मात्र 15 दिन में 35 लोगाें की संदिग्ध मौत होने की खबर प्रकाशित होते ही स्वास्थ्य...

4 वाहन सीज 35 लोगों के चालान

यातायात पुलिस की ओर से नगर निगम पुल के पास की गई चेकिंगयातायात पुलिस ने नगर निगम चौक के पास चेकिंग अभियान चलाया।...

पूर्व सीएम रावत ने भी कहा मंगलौर के चारों तरफ बिगड़ चुके हैं हालात

ख़बर सुनें ख़बर सुनें गांवों में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच बिगड़ रहे हालात को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने फेसबुक के...

More Articles Like This