मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने महाकुंभ मेले के संबंध में ली बैठक, समय से कार्य पूर्ण करने के दिए निर्देश, बोले तेजी से कार्य कर रही है सरकार, दिव्य और भव्य होगा महाकुंभ

हरिद्वार । शनिवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेला नियंत्रण भवन में आगामी कुम्भ मेले को लेकर बैठक की। बैठक में मेला अधिकारी दीपक रावत, आईजी कुम्भ संजय गुंज्याल सभी तरह अखाड़ों के साधु संतो समेत कई अधिकारी मौजूद रहे। बैठक के दौरान कुम्भ मेले के लिए होने वाले निर्माण कार्यो पर विस्तृत चर्चा की गई। दौरान साधु संतो ने मुख्यमंत्री से कुम्भ मेले क्षेत्र का विस्तार करने के साथ ही अखाड़ों के लिए स्थाई भूमि और स्थाई निर्माण करवाने की माँग की और अपनी सभी समस्याओ को भी गिनवाया। मुख्यमंत्री ने भी साधु संतो की सभी माँगो पर विचार करने का भरोसा दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार कुम्भ मेले को लेकर तेजी से काम कर रही है, कुम्भ मेले के लिए बड़े फण्ड का अनुमोदन कर लिया गया है जिसमे से कुछ फण्ड को रिलीज भी कर दिया है। सरकार का प्रयास है कि हरिद्वार कुम्भ मेला एक अलग मानदंड स्थापित करे इसके लिए सभी अधिकारियो को निर्देशित किया गया है कि सभी कार्यो को समय से पूरा किया जाये। बैठक में नगर विकास मंत्री मदन कौशिक, मुख्य सचिव उत्तपल सिंह, सचिव नगर विकास शेलेष बगोली, आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन,मेलाधिकारी दीपक रावत,मेला आई जी संजय गुंज्याल ,मेला वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनमेजय खंडूरी ,अपर मेला अधिकारी ललित नारायण मिश्रा एवयं हरबीर सिंह इत्यदि मौजूद हैं। सांथ ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी,महामंत्री हरिगिरि महाराज सहित श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा, श्री पंच दशनाम आवाहन अखाड़ा,श्री पंच अग्नि अखाड़ा, तपोनिधि पंचायती श्री निरंजनी अखाड़ा, श्री पंचायती आनन्द अखाड़ा, श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा, श्री पंचायती अटल अखाड़ा,अखिल भारतीय श्रीपंच दिगम्बर अणीअखाड़ा, अखिल भारतीय श्री पंच दिगम्बर निर्वाणी अणी अखाड़ा, अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अणी अखाड़ा, श्री पंचायत बड़ा उदासीन निर्वाण अखाड़ा, श्री पंचायत नया उदासीन  अखाड़ा,निर्वाण, श्री पंचायत निर्मल अखाड़ा के प्रतिनिधि मौजूद है। बैठक शुरू करने से पहले मुख्यमंत्री ने बैठक में मौजूद सभी सन्तों का माला पहना कर स्वागत किया। मेले से सम्बंधित पानी,बिजली,सड़क इत्यादि अवस्थापना के नोडल अधिकारी द्वारा पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन दिया जा रहा है।मुख्यमंत्री ने बैठक में समय पर कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिया गया। प्रोजेक्ट डायरेक्ट वैभव मित्तल ने नवम्बर 2020 तक कार्य पूर्ण का आश्वासन दिया। पुलिस व्यस्था के बारे में आई जी संजय गुंज्याल ने कहा एक समय में एक स्थान पर कुम्भ की भीड़ का उदाहरण विश्व मे कहीं नही मिलता है। दिव्य,भव्य और सुरक्षित कुंभ का आयोजन होगा। शीत काल से प्रारम्भ होकर ग्रीष्म काल मे समापन होगा। उन्होंने कहा कि 23 स्थल पार्किंग के लिये चिन्हित है। 32 सेक्टर,630 हेक्टेयर 50 वर्ग किमी में मेला होगा।इस दौरान सन्तों ने मेला व्यवस्था के बारे में सुझाव दिए । केबल लेस कुम्भ होगा। कुम्भ पूर्व अंदर ग्राउंड केबल कार्य पूर्ण होगा।नेत्र कुम्भ भी लगेगा। व्यपक रूप में दृष्टि उपचार का प्रबन्ध होगा। विभागीय तालमेल पर बल दिया गया। मुख्यमंत्री ने अखाड़ा परिषद ने प्रत्येक अखडा के लिए भूमि और निर्माण के धन की मांग रखी। इस संबंध में उन्होंने शहरी विकास मंत्री से कहा कि आवश्यकता उपलब्धता,नियमो की सीमाओं के अधीन इसके प्रबन्ध की व्यवस्था होगी। प्रयाग कुम्भ से बेहतर प्रबन्ध कर हरिद्वार कुम्भ को यादगार बनायेंगे । 2021 के बाद होने वाले कुम्भ में हरिद्वार कुम्भ को मानक बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने पंचायती नया अखाड़ा उदासीन पहुँच कर श्रीमहंत भगतराम दास से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने श्री चंद्र मंदिर में दर्शन कर आशीर्वाद भी लिया। इस अवसर पर कमिश्नर गढ़वाल  रविनाथ रमन, सचिव नगर विकास शैलेष बगोली, जिलाधिकारी हरिद्वार दीपेंद्र चैधरी, मेलाधिकारी  दीपक रावत, मेला आई जी संजय गुंज्याल, मेला वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मजेय खंडूरी, सूचना विभाग सचिवालय से मलकेश्वर कैलखूरी सहित अनेक अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में मेलाधिकारी दीपक रावत, आई जी संजय गुंजियाल, मेला एसएसपी जन्मजेय खंडूरी, जिलाधिकारी, दीपेंद्र चौधरी,  एसएसपी हरिद्वार सैंथिल अबुदई,
देहरादून एसएसपी अरुण मोहन जोशी भी है मौजूद सहित सभी अधिकारी मौजूद। बैठक में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ज्वालापुर विधायक सुरेश राठौर रानीपुर विधायक आदेश चौहान सहित अन्य अन्य विधायक भी मौजूद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *