गंगनहर में बह रहा है 13000 क्यूसेक पानी, सिंचाई की जरूरत को देखते हुए बढ़ाया गया है पानी, इतनी मात्रा में पानी बहने पर संगम पर स्नान करना खतरे से खाली नहीं

 

रूड़की ।    जैसे-जैसे तापमान बढ़ रहा है उसी के साथ साथ खेतों की सिंचाई के लिए पानी की डिमांड भी बढ़ रही है। फिलहाल ईख, हरे चारे की फसल की सिंचाई के साथ ही धान की पौध की बुवाई का कार्य तेजी से चल रहा है। इसीलिए सभी ब्रांच, रजवाहो, माइनर में अधिक से अधिक पानी छोड़े जाने की आवश्यकता है। माना जा रहा है कि इसीलिए उत्तरी खंड गंगनहर रुड़की ने हरिद्वार हेडवर्क से गंगनहर में पानी की मात्रा बढ़वा दी है । गंगनहर में पहले 12000 क्यूसेक पानी बह रहा था। इसके बाद स 12500 क्यूसेक किया गया और अब 13000 क्यूसेक कर दिया गया है। चुंकि गंगा में पानी की मात्रा इस बार काफी अधिक है। प्रतिदिन औसतन 34000 क्यूसेक पानी बह रहा है इसीलिए गंगनहर में पानी बढ़ाने में इंजीनियरों को कोई खास माथापच्ची नहीं करनी पड़ी। अन्यथा इन दिनों हरिद्वार हेड वर्क से गंग नहर में 100 क्यूसेक पानी बढ़ाने के लिए भी स्थानीय इंजीनियरों को गंगा संचालन मेरठ मंडल के अभियंताओं से वार्तालाप करनी पड़ती थी। कई बार तो विभिन्न ब्रांच रजवाहो से डिमांड आने के बाद भी इन दिनों पानी की मात्रा नहीं बढ़ पाती थी। लेकिन इस बार गंगा में बहुत अधिक पानी बह रहा है। इसीलिए किसी भी ब्रांच रजवाहे से डिमांड आने के साथ ही पानी की मात्रा बढ़ा दी जाती है। हालांकि गंग नहर में 13000 क्यूसेक से अधिक पानी नहीं छोड़ा जा सकता । फिलहाल गंग नहर पूरी क्षमता से बह रही है। जिसके चलते नई और पुरानी ब्रांच सर्की तांशीपुर, आस मोहम्मद पुर, जगजीतपुर रजवाहा,इब्राहिमपुर राजवाहा सभी लबालब है। किसानों के खेत भी समय से सींचे जा रहे हैं। पर गंग नहर पूरी क्षमता से बहने के कारण संगम पर स्नान करना खतरे से खाली नहीं है। क्योंकि गंगनहर संगम रुड़की पर काफी तेज गति से पानी बह रहा है। ऐसे में यदि युवक किशोर पुल से गंगनहर में छलांग लगाएंगे तो उनके बहने का डर रहेगा। पूर्व में कई किशोर और युवा के इसी तरह से गंग नहर में डूब भी चुके हैं। इंजीनियर मान रहे हैं कि फिलहाल गंग नहर में तेज गति से पानी बह रहा है। इस संबंध में वह हिदायत भी दे रहे हैं कि संगम पर स्नान घाट पर बैठकर ही किया जाए। ना कि पुल से छलांग लगाकर। आशापुर नगर रेगुलेटर और रेलवे पुल के बीच के क्षेत्र में भी जल स्तर काफी ऊंचा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *