लोकसभा के भीतरघातियों की जांच शुरू, प्रदेश महामंत्री अनिल गोयल कर रहे हैं जांच, भाजपा के केंद्रीय कार्यालय प्रभारी द्वारा दिए गए हैं जांच के निर्देश

 

देहरादून / रुड़की ।      लोकसभा चुनाव के दौरान भितरघात करने वाले पार्टी के मौजूदा और पूर्व पदाधिकारियों के खिलाफ जांच शुरू हो गई है । चुनाव के दौरान रही उनकी भूमिका के बारे में रिपोर्ट जुटाई जा रही है। जांच भाजपा के प्रदेश महामंत्री अनिल गोयल कर रहे हैं। सूत्रों ने बताया है कि जांच अधिकारी भाजपा प्रदेश महामंत्री अनिल गोयल ने वास्तविकता जानने के लिए हरिद्वार लोकसभा क्षेत्र के मूल निवासी मौजूदा और पूर्व पदाधिकारियों से जानकारी ली है। उन्होंने भाजपा के अनुषांगिक संगठनों से भी संबंधित पदाधिकारियों के बारे में मालूम किया है कि क्या उन्होंने चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी डॉ रमेश पोखरियाल निशंक के खिलाफ काम किया है? यदि इन्होंने चुनाव में भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ काम किया गया है तो बताएं कि यह किस पार्टी को प्रत्याशी के समर्थन में रहे। चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों को पुष्ट करने वाले फोटो व अन्य साक्ष्य भी भेजे जाएं । जांच अधिकारी प्रदेश महामंत्री ने पार्टी के निष्ठावान लोगों से यह भी पूछा है कि जांच के दायरे में आए पदाधिकारियों व पूर्व पदाधिकारियों ने क्या चुनाव के दौरान किसी अन्य नेता के साथ मंच साझा किया है । यदि मंच साझा किया है तो उसकी वीडियो या फोटो हो तो वह भी उपलब्ध कराए जाएं। इस दौरान का कोई आॅडियो वीडियो भी हो तो वह भी समय रहते भेजें। प्रदेश महामंत्री ने शिकायतकर्ता दोनों पूर्व जिलाध्यक्ष के साथ ही मौजूदा जिलाध्यक्ष भी इस बारे में जानकारी मांगी है । सूत्रों ने बताया है कि भाजपा प्रदेश महामंत्री ने उन सभी मौजूदा और पूर्व पदाधिकारियों के बारे में एक-एक कर जानकारी ली है । जिनके संबंध में भाजपा के दो पूर्व जिला अध्यक्षों ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से शिकायत की है और उनके निर्देश पर भाजपा राष्ट्रीय महामंत्री एवं केंद्रीय कार्यालय प्रभारी अरुण सिंह ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को उचित जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। जिसके चलते जांच शुरू हुई है हालांकि बीच में लोकसभा सत्र चलने के कारण यह जांच थोड़ा ठिठक गई थी। सूत्रों ने बताया कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने हरिद्वार लोकसभा क्षेत्र में पार्टी प्रत्याशी का विरोध करने संबंधी इस जांच का जिम्मा पहले भाजपा के प्रदेश महामंत्री श्री भंडारी को सौंपना चाहा। लेकिन श्री भंडारी ने यह कहकर जांच किसी दूसरे महामंत्री को सौंपने का आग्रह किया कि जिनके खिलाफ शिकायत है वह सब उनके पुराने जानकार हैं । संगठन में वह एक साथ काम कर चुके हैं ।इसीलिए उनके द्वारा जांच करना उचित नहीं रहेगा। माना जा रहा है इसी के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने जांच भाजपा प्रदेश महामंत्री अनिल गोयल को सौंपी है । अनिल गोयल व्यापार राजनीति से भी जुड़े हुए हैं। चुनाव के दौरान किसने क्या गुल खिलाए इसस वह पूरी तरह वाकिफ है। उनके द्वारा सही और जल्द जांच पूरी करने की उम्मीद प्रदेश नेतृत्व कर रहा है। वही जांच होने संबंधी जानकारी मिलने पर वह सभी लोग भी चौकन्ने हो गए हैं जिनके बारे में लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी का विरोध करने संबंधी शिकायत की गई है। अब वह भी शिकायत करने की वजह तलाश रहे हैं। साथ ही पार्टी में अपने आंखों से बचाओ के रास्ते मालूम कर रहे हैं। बता दें कि भीतरघातियों की श्रेणी में आए मौजूदा व पूर्व पदाधिकारियों के साथ ही अन्य नेता भी आज प्रदेश संगठन से विभिन्न माध्यम से यह जानकारी जानने की कोशिश करते रहे कि क्या क्या कार्रवाई हो रही है। भीतरघातियों की सूची में किस किस के नाम है और किसके खिलाफ हाईकमान अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को तैयार बैठा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *