उत्तराखंड में बारिश के कारण मलबा आने से बंद पड़ी 97 सड़क, जनजीवन अस्त-व्यस्त

 

देहरादून  ।     उत्तराखंड में बारिश का कहर जारी है। बारिश के चलते प्रदेश में खासतौर पर पहाड़ी जिले में रहने वाले लोगों की मुश्किलें और ज्यादा बढ़ गई हैं।
भारी बारिश के चलते जहां नदी-नाले उफान पर हैं, वहीं कई संपर्क मार्ग भी ध्वस्त हो चुके हैं, जिससे कई गांवों का संपर्क टूट गया है।
राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश में 97 सड़कें अवरुद्ध हैं। पिथौरागढ़ जिले की बात करें तो जिले में कुल 22 सड़कें अवरुद्ध हैं। जिले में 99 परिवारों के 324 सदस्य राहत शिविरों में रहने को मजबूर हैं।
वहीं उत्तरकाशी जिले के अगर बात करें तो यहां पर ऋषिकेश-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग ओजरी/डाबरकोट में रास्ते में मलबा आने के कारण बंद पड़ा हुआ है, जिसे खोलने का काम चल रहा है। ऐसे में यमुनोत्री धाम आने-जाने वाले यात्री वैकल्पिक पैदल मार्ग त्रिखली-कुलशाला-शयानाचट्टी से आवाजाही कर रहे हैं।
चमोली जिले की अगर बात करें तो जिले में 23 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध हैं, वहीं 18 परिवारों के 99 सदस्य राहत शिविरों में रह रहे हैं।
राजधानी देहरादून की अगर बात करें तो जिले में 17 ग्रामीण मार्ग अवरुद्ध हैं जबकि टिहरी जिले में 7 मोटर मार्ग अवरुद्ध पड़े हुए हैं। इसी तरह पौड़ी जिले में भी 12 ग्रामीण मार्ग अवरुद्ध पड़े हुए हैं।
अल्मोड़ा जिले में 6 ग्रामीण मार्ग अवरुद्ध हैं तो बागेश्वर जिले में कुल 7 मोटर मार्ग अवरुद्ध हैं। बागेश्वर जिले में कपकोट-पिण्डारी ग्लेशियर मुख्य मार्ग भी मलबा आने से अवरुद्ध पड़ा है, जिसे खोलने का कार्य जारी है। चंपावत जिले में भी 2 ग्रामीण मोटर मार्ग मलबा आने से अवरुद्ध हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *